UPSC Exams : हर वर्ष संघ लोक सेवा आयोग मतलब कि यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम में लाखों लोग परीक्षा देते हैं, परंतु सफलता केवल 1 फ़ीसदी ही रहती है। इसमें ज्यादातर ऐसे लोग होते हैं जो सफलता के लिए लाखों रुपए खर्च कर देते हैं और कोचिंग लेते हैं लेकिन इसके बाद भी उन्हें सफलता नहीं मिलती है, क्योंकि इस परीक्षा की तैयारी करने के लिए रणनीति के बारे में जानकारी का होना अति आवश्यक है।

यूपीएससी परीक्षा को पास करने की रणनीति के बारे में जानने का सबसे अच्छा स्रोत एक आईएएस अधिकारी की तैयारी करने के तरीकों के बारे में जानना होता है। आइए आज हम आपको एक ऐसी ही सक्सेस स्टोरी के बारे में बताते हैं।

UPSC Exams : नौकरी के साथ बिना कोचिंग के यूपीएससी एग्जाम की तैयारी

हम बात कर रहे हैं आईएएस अधिकारी दिल्ली की सर्जना यादव के बारे में। जिन्होंने नौकरी के साथ बिना कोचिंग के यूपीएससी एग्जाम की तैयारी की और तीसरे प्रयास 2019 में सिविल सेवा परीक्षा में 126 रैंक हासिल करने के बाद आईएएस बनी।

UPSC Exams

यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exams) बहुत ही कठिन परीक्षा होती है इसीलिए लगभग सभी इसकी तैयारी करने के लिए कोचिंग ज्वाइन करते हैं और लाखों रुपए तक खर्च करते हैं। सर्जना यादव का नजरिया ही कुछ और है एक इंटरव्यू के दौरान सजना ने बताया कि उम्मीदवार की इच्छा पर निर्भर करता है कि वह कोचिंग लेना चाहता है या नहीं।

अगर आपके पास संपूर्ण स्टडी मैटेरियल है और यूपीएससी के लिए आपकी रणनीति बेहतर है तो आप सेल्फ स्टडी करके भी सफलता पा सकते हैं। यदि व्यक्ति को लगता है कि वह कक्षा के वातावरण में बेहतर प्रदर्शन करने में सक्षम होंगे तो उन्हें अवश्य कोचिंग ज्वाइन करनी चाहिए, लेकिन अगर आप पढ़ाई के प्रति ईमानदार हैं तो सेल्फ स्टडी ज्यादा बेहतर होती है।

UPSC Exams : दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन

बता दे कि सर्जना यादव ने दिल्ली प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरी की है। इसके बाद वह टी आर ए आई में रिसर्च ऑफिसर के तौर पर काम कर रही हैं। फुल टाइम जॉब करने के साथ-साथ सर्जना ने यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exams) की तैयारी की, परंतु पहले दो प्रयास में उन्हें सफलता नहीं मिल पाई। इसके बावजूद भी उन्होंने हार नहीं मानी और अपनी गलतियों से सीखा।

सर्जना ने परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए 2018 में अपनी नौकरी छोड़ दी, क्योंकि नौकरी के चलते वह पूरा ध्यान नहीं दे पा रही थी। 2018 में अपने नौकरी से इन्होंने इस्तीफा दे दिया और पूर्णकालिक तैयारी शुरू कर दी। हालांकि कोचिंग नहीं ज्वाइन की थी और सेल्फ स्टडी पर भरोसा किया। सर्जना यादव ने 2019 में ऑल इंडिया में 126 रैंक हासिल की और अपना आईएएस अफसर बनने का सपना पूरा कर लिया।

Leave a comment

Your email address will not be published.