Top 10 Beautiful Places of Kutch in Gujarat

गुजरात स्थित कच्छ के बारे में जहाँ आप घुमने जा सकते हैं. तो चलिए शुरू करते हैं वो ऐसी 10 खूबसूरत जगह जहाँ आप घूमने जा सकते हैं.

1- Shyam Ji Krishna Memorial

  1. श्याम जी कृष्णा का जन्म सन् 1897 में मांडवी शहर में हुआ था. जो भारत के सबसे बड़े स्वतन्त्रता सेनानियों मे से एक थे. उनको सम्मान और लोक जागृति के उद्देश्य से गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री श्री ‘नरेन्द्र दामोदर दास मोदी’ ने मांडवी शहर में इस मैमोरियल की स्थापना करवाई थी.

2- Mandvi beach

मांडवी बीच गुजरात में स्थित सबसे खूबसूरत Beaches में से एक गिना जाता हैं. जो मुख्य शहर से महज 5 किमी की दूरी पर स्थित हैं. शहर की भीड़-भाड़ से आरामदायक समय बिताने के लिए यह एक आदर्श जगह मानी जाती हैं.

3- Bhadreshwar Jain Temple

मुद्रा शहर से महज 32 किमी की दूरी पर स्थित यह भारत मे सबसे पवित्र और सबसे पुराने जैन मंदिरो में से एक गिना जाता हैं. यहाँ पर संगमरमर से बना एक मुख्य मंदिर मौजूद हैं. यह जगह गुजरात में स्थित सबसे पवित्र जैन तीर्थ धामों में से एक गिनी जाती हैं.

4- Vijay vilas palace

कच्छ के मांडवी शहर में स्थित यह एक रजवाड़ी महल हैं. जिसकी रचना सन् 1929 में राजा विजय राज जी ने करवाई थी. राजपूत शैली में बना यह एक शानदार महल हैं. जहाँ पर विशालकाय गूम्बद, रंगीन काँच और नक्काशीदार खम्बे देखने लायक हैं. यह शानदार महल आपका मन मौह लेगा. यह मांडवी शहर के समुद्रतट से कुछ ही दुरी पर स्थित हैं.

5- Wild ass sanctuary

कच्छ के रण में स्थित यह अभयारण्य भारत में स्थित सबसे बड़ा वन्य जीव अभयारण्य हैं. जो तकरीबन 5000 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला हुआ हैं. यहाँ पर कई तरह के वन्य जीव पाये जाते हैं. जिसमें चिकांरा, कैराकच्छ, और एशिया के विशालतम नील गाय देखे जा सकते हैं. पर इन सब में सबसे महत्वपूर्ण हैं यहाँ के जगंली गधे यानी की खच्चर (घुड़खर). यह अभयारण्य पूरे विश्व में जाना जाता हैं.

6- Kutch museum

यह गुजरात में स्थित सबसे पुराने Museum में से एक गिना जाता हैं. जो हुड़ शहर के ‘हमीरसार’ झील के किनारे बना हुआ हैं. पर्यटक यहाँ पर विभिन्न चित्रों, सिक्कों, संगीत, वाद यंत्रो और कलात्मक नक्काशी को भी देख सकते हैं. यह भारत का सबसे पहला Online museum हैं. जो सुबह 10 बजे से 1 बजे तक और 2:30 बजे से शाम 5 बजे तक खुला रहता हैं.साथ ही हर बुधवार को यहाँ अवकाश रहता हैं.

7- Narayan sarovar

नारायण सरोवर का अर्थ विष्णु सरोवर से हैं. यह हिन्दूओं का एक पवित्र तीर्थ स्थान हैं. जो कच्छ के लखपत तालुका मे स्थित हैं. यह सरोवर भारत में मौजूद पाँच सबसे पवित्र सरोवरो में से एक गिनी जाती हैं. काफी प्रसिद्ध कोटेश्वर मंदिर यहाँ से 4 किमी की दूरी पर स्थित हैं. यहाँ पर आने वाले पर्यटक यहाँ पर बने नारायण सरोवर वन्य जीव अभयारण्य को भी देख सकते हैं.

8- The great rann of kutch

यह खूबसूरत जगह कच्छ रण और कच्छ का रेगिस्तान के नाम से भी जाना जाता हैं. जो 23800 वर्ग किमी के क्षेत्रफल में फैला हुआ हैं. बारिश के बाद यह बनने वाला सफेद रण काफी लौकप्रिय हैं. साथ ही साथ यहाँ पर होने वाले रण उत्सव का मुख्य आकर्षण हैं. हर साल यहाँ पर राज्य सरकार द्वारा रण उत्सव का आयोजन किया जाता हैं. जहाँ पर लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं. इस साल मुझे भी जाने का अवसर मिला. यहाँ आप जब भी आयें तो अपना रूम पहले से Online बुक कर ले ताकि यहाँ रात में रूकने में परेशानी न हो.

9- Dholavira

यह हड़प्पिय संस्कृति का एक विशाल नगर हैं. जो कच्छ प्रदेश के उत्तरीय विभाग खडीर द्विप पर बना हुआ हैं. यह हड़प्पिय सामराज्य के पाँच विशाल जगहों में से एक गिनी जाती हैं. जो 120 एकड़ के क्षेत्र में फैली हुई हैं. धोलावीरा का निर्माण चौकोर एवं आयताकार पत्थरों से हुआ है, जो समीप स्थित खदानो से मिलता था. यह 5000 साल पुराना महानगर हैं. जो भारत की टाँप आर्कियोलाँजिकल साइड़ मे से एक गिनी जाती हैं.

10- Prag mahal

इस महल का निर्माण सन् 1865 में राजाराव प्रागमल द्वितीय ने करवाया था. जो प्राग महल के नाम से भी जानी जाती हैं. उन्नीसवी सदी की यह खूबसूरत इमारत इटालियन गौतिक शैली में बनाई गई हैं और इसकी खूबसूरत स्थापित शैली के कारण यहाँ पर कई फिल्में भी फिल्माई गई है. कच्छ के भुज शहर में स्थित यह इतिहास प्रेमियों के लिए एक खास जगह हैं.
उम्मीद करता हूँ कि आपको पांँस्ट जरूर पसंद आई होगी. आप अपनी राय कमेंट Section में जरूर दें और अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूलें. 
यदि आपके पास कोई विचा या जानकारी हैं जो लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं तो आप Merajazbaamail@gmail.com पर भे सकतें हैं.
                                                           धन्यवाद !

Leave a comment

Your email address will not be published.