Aamir Qutub Success Story : सपने देखने के लिए हौसलों की जरूरत पड़ती है। सपना देखने के लिए उसके लिए नई राह पर चलना पड़ता है। नई राह पर चलने के लिए बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

आज हम आपको एक ऐसे शख्स की कहानी बताने जा रहे हैं, जिसके सपने तो बहुत बड़े थे परंतु जी ने बिल्कुल भी पैसे नहीं थे। सपने पूरा होता देखने के लिए चुनौती का सामना करना पड़ता है और बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। आइए जानते हैं कौन है वह शख्स और क्या है उसके सपने।

उत्तर प्रदेश अलीगढ़ के रहने वाले आमिर (Aamir Qutub Success Story) को तो बेहद ही साधारण परिवार के रहने वाले हैं ऐसे में उन्होंने अलग रास्ता अपनाया लेकिन आमिर के पिता चाहते थे, कि बेटा पढ़ लिखकर बड़ा अफसर बने ताकि, उनका नाम ऊंचा हो परंतु आमिर का पढ़ाई लिखाई में बिल्कुल भी मन नहीं लगता था 12वीं पास करने के बाद आमिर (Aamir Qutub Success Story) के पास एक कॉलेज में बैठक में प्रवेश लिया परंतु, पढ़ाई के प्रति उनका रवैया देखकर उनको टीचर ने भी कह दिया तुम पूरे जीवन में कुछ नहीं कर पाओगे।

Aamir Qutub Success Story

Aamir Qutub Success Story : नौकरी छोड़ अपना फ्रीलांसिंग का काम शुरू किया

इसके बाद आमिर ने बेटे की पढ़ाई पूरी की और नौकरी का रास्ता चुना परंतु उन्होंने पहेली नौकरी नहीं की और दूसरी नौकरी को स्वीकार किया नौकरी में उनका मन नहीं लगा क्योंकि वह कभी नौकरी नहीं करना चाहते थे, परंतु परिवार के दबाव के चलते उन्हें नौकरी करनी पड़ी इसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़ अपना फ्रीलांसिंग का काम शुरू किया ग्राफिक डिजाइनिंग के इस काम के उनके कई क्लाइंट ऑस्ट्रेलिया से भी जुड़ गए।

काम होते-होते एक लाइन ने बताया कि मैं ऑस्ट्रेलिया में बड़े पैमाने पर काम कर सकते हैं। इसके बाद आमिर ने ऑस्ट्रेलिया जाने के बारे में सोचा और स्टूडेंट के वीजा पर ऑस्ट्रेलिया पहुंच गए। इसके बाद एमबीए में दाखिला लिया इसके बाद उन्होंने एयरपोर्ट पर साफ सफाई का काम किया। इसके बाद उन्हें बिजनेस का बिल्कुल भी समय नहीं मिलता था इसीलिए उन्होंने यह काम छोड़ दिया और अखबार बांटना शुरू किया 3:00 बजे उठने के बाद 7:30 बजे तक फ्री हो जाते। इसके बाद अपने बिजनेस का काम करते हैं धीरे-धीरे उनका बिजनेस विस्तार करने लगा आखिर वह दिन आया जब वह 100 करोड़ के टर्नओवर को भी पार कर गए।

Leave a comment

Your email address will not be published.