1. मेरी प्यारी कविताएं Heart Touching Poem in Hindi

कवी क्या हैं ?

कवी एक कल्पना है, एक सोच हैं, जिसे सज़ोता हैं अपनी कविताओं मे ..
कवी एक खोज हैं जिसे ढूढ़ता है कायनात की हर एक चीज में ….
कभी भूखा ही भटकता हैं कविता की भूख को शांत करने…
तो कभी भूख में ही भूख पर लिख देता हैं भूखी कविता….
कभी कवी स्याह मौत का साक्षात्कार लेता है अपने अनुभवो से..
तो कभी अमर हो जाता है वक्ष के पृष्ठो में….
कवी सुनता है सन्नाटे की आवाज और खुरचकर निकालता है हवा मे छिपे, वो मौन शब्द ….!
कवी हजारो चीखो को दिल मे दफन किये, वो बहरी दिवार है जिसे कान होने का कलंक प्राप्त हैं ।
कवी अधेरे को चीरती वो हिय की आँखे है जो कभी दिखाई तो नहीं देती पर देख सब कुछ लेती हैं ।
जहाँ भीड़ से जवाब माँगने पर नहीं मिलते बात में, वो जवाब ढुढता हैं निर्वात में ।
                        हौसला
ये बदलाव की आधियाँ कहीं बिखर न जाए ।
जो वादा किया है हमसे, कहीं वो मुकर न जाए ।।
सिली है जो चादर अपने हौसलों की सुई से ।
कहीं साजिशों की साठ-गांठ से उधर न जाए ।।
मुश्कान मेरी इन्हीं गलियों में कहीं गुम सी हो गई हैं ।
ढूडता हूँ उसे हर चहरे पर और खोजता हूँ वहाँ भी जहां नज़र न जाए ।।
डूबकर जिदां रखा है मुश्किलो के महासागर में खुद को ।
चैन की अब सांसे लू, तो कहीं यें जिदंगी अखर न जाए ।।
                 
                         जज्बा
तेरी कितनी मेहनत, तेरी कौन थकान देखता है ?
जमाना तो परिदें की उड़ान देखता है ।
तूने जो बोया हैं अपने भविष्य को भूतकाल में,
आज निहारकर सारा वर्तमान देखता हैं ।।
कल तक जो रोदते थे निगाहों से तेरे उसारे को,
अमीरी की चार दिवारी से तेरा मकान देखता हैं ।।
मैं मानता हूँ नम्रता को हैं हमेशा ज़मी की जरूरत,
मगर अहंकार से भरा शीश, आसमान देखता हैं ।
चहरे की रौनक पहचान हैं जिदां होने की ,
जो हो इससे जुदा, उसे मशान देखता हैं ।
मेरे हिस्से में किसी का नसीब कैद नहीं, जबरन
तेरे हिस्से का हिसाब भी भगवान देखता है ।
फिकर करना तेरी फितरत में नहीं, मौजूद
जो चुना फलसफा सारा हिन्दुस्तान देखता हैं ।
दोस्तों, आपको हमारी कविताओं का अंक कैसा लगा , हमें कमेंट करकें जरूर बतायें ।

Leave a comment

Your email address will not be published.